अन्तर्राष्ट्रीय क्षेत्रीय हिन्दी सम्मेलन 2014

न्यू यॉर्क, 25-27 अप्रैल 2014


२१वीं सदी के विश्व में हिन्दी भाषा


कार्यक्रम रूप-रेखा




पहला दिन: 25 अप्रैल 2014

(भारत का प्रधान कौंसुलावास, 3 ईस्ट 64 स्ट्रीट, न्यू यॉर्क)


शाम 6 से 9 बजे तक: स्वागत और रात्रि-भोज


नाट्य मंचन: स्व. शरद जोशी रचित, हिन्दी नाटक 'अन्धों का हाथी', प्रस्तुति: प्रयोग मंच, नार्थ ब्रुन्सविक, नई जर्सी, निर्देशन: अमिया मेहता


दूसरा दिन: 26 अप्रैल 2014

(न्यू यॉर्क विश्वविद्यालय, सिल्वर सेंटर, 100 वाशिंगटन स्क्वायर ईस्ट, न्यू यॉर्क)


प्रातः 9:00-10:30 बजे -- उद्घाटन सत्र

(102, सिल्वर सेंटर, हेम्मरडिंगर हॉल) 


संचालन: श्री शंभू अमिताभ, वाइस कौंसुल, भारत का प्रधान कौंसुलावास, न्यू यॉर्क

दीप प्रज्वलन

स्वागत-वक्तव्य: श्री सुगंध राजाराम, प्रमुख संयोजक, आयोजन समिति, अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्रीय हिन्दी सम्मेलन 2014

स्वागत भाषण: श्री ज्ञानेश्वर एम. मुले, भारत के कौंसुल जनरल, न्यू यॉर्क

उद्घाटन भाषण: महामहिम डॉ. एस. जयशंकर, भारतीय राजदूत, वाशिंगटन डी.सी.


व्याख्यान: " बहुभाषिक सामाजिक संरचना पर अमेरिकी सरकार की मुहर: हिन्दी का स्वर्णिम काल": डॉ सुरेन्द्र गंभीर, यूनिवर्सिटी ऑफ़ पेनसिलवेनिया

शुभकामना सन्देश:

डॉ. पी. जयरामन, भारतीय विद्या भवन, संयुक्त राज्य अमरीका

डा. हरमन वान ओल्फेन, टेक्सास विश्वविद्यालय, ऑस्टिन

डॉ. रूपर्ट स्नेल, टेक्सास विश्वविद्यालय, ऑस्टिन

डॉ. माइकल शापिरो, वाशिंगटन विश्वविद्यालय


10:30-10:45 बजे: चाय

(सिल्वर सेंटर, 101, सिल्वरस्टाइन लॉउन्ज)


10:45-12:30 बजे -- खुला सत्र 1: हिन्दी-शिक्षण और अध्ययन

(102, सिल्वर सेंटर, हेम्मरडिंगर हॉल) 


सत्र-उद्देश्य: अमेरिका में विभिन्न संस्थाओं और संगठनों द्वारा चलाए जा रहे हिंदी भाषा शिक्षण और अध्ययन कार्यक्रमों का सिंहावलोकन। अब तक की उपलब्धियों का आकलन और भविष्य के विकास की रूपरेखा।

संचालन: डा. गैब्रिएला निक इलिएवा, न्यू यॉर्क विश्वविद्यालय

वक्तव्य: डा. ज़ीवी बेन डोर बेनाईट, चेयर, मध्य-पूर्व अध्ययन विभाग, न्यू यॉर्क विश्वविद्यालय

वक्ता गण:

डॉ. रूपर्ट स्नेल, निदेशक, हिंदी-उर्दू फ्लैगशिप, टेक्सास विश्वविद्यालय, ऑस्टिन

"हिंदी शिक्षण और प्रशिक्षण: अब हम कहाँ हैं?"

डॉ. माइकल शापिरो, संभागीय डीन, ह्यूमैनिटीज विभाग, वाशिंगटन विश्वविद्यालय

"संयुक्त राज्य अमेरिका में हिंदी शिक्षा का एक अर्धशतक"

श्रीमती बेट्सी हार्ट, निदेशक, स्टारटॉक, नेशनल फॉरेन लैंग्वेज सेंटर, मैरीलैंड विश्वविद्यालय

डॉ. स्कॉट मैकगिन्नीस, डिफेन्स लैंग्वेज इंस्टिट्यूट, वाशिंगटन कार्यालय


12:30-1:30 दोपहर: भोजन

(सिल्वर सेंटर, 101, सिल्वरस्टाइन लॉउन्ज)


1:30-3:15 दोपहर:

विचार गोष्ठी 1: हिन्दी – एक विरासत भाषा: वास्तविकता और संभावनाएं

(102, सिल्वर सेंटर, हेम्मरडिंगर हॉल)


सत्र-उद्देश्य: विदेशों में बसे भारतीयों की विरासत भाषा के रूप में हिंदी को जीवंत रखने के लिए आवश्यक कदमों  की अभिव्यक्ति; वर्तमान अवसरों और भावी कार्यक्रमों का ब्यौरा; विरासत शिक्षार्थियों के अनुभव।

संचालन:

अशोक ओझा, युवा हिन्दी संस्थान, न्यू जर्सी

वक्ता:

डॉ. जॉय पैटन, सीनियर फेलो, सेण्टर फॉर एप्लाइड लिंग्विस्टिक्स, वाशिंगटन डी सी

सुषमा मल्होत्रा, न्यू यॉर्क सिटी डिपार्टमेंट ऑफ़ एजुकेशन

डा. विजय गम्भीर, यूनिवर्सिटी ऑफ़ पेनसिलवेनिया


विचार गोष्ठी 2: "हिन्दी के विकास के लिये नये कदम – वास्तविकता और सम्भावनाएं"

(ज्यूरो लेक्चर हॉल, 101A सिल्वर सेंटर)


सत्र-उद्देश्य: हिन्दी शिक्षण की गुणवत्ता में सुधार के लिए चल रहे कार्यक्रमों और नए विचारों पर विस्तृत चर्चा

संचालन: डा. जिष्णु शंकर, टेक्सास विश्वविद्यालय, ऑस्टिन

वक्ता:

श्रीमती जेनिस जेन्सन, निदेशक, स्कूल फॉर ग्लोबल एजुकेशन एंड इनोवेशन, केन विश्वविद्यालय, न्यू जर्सी

डॉ. गैब्रिएला निक इलिएवा, न्यू यॉर्क विश्वविद्यालय


3:15-3:30 दोपहर -- दोपहर की चाय

(सिल्वर सेंटर, 101, सिल्वरस्टाइन लॉउन्ज)


3:30-5:00 बजे – खुला सत्र 2: 'स्टडी एब्रॉड' कार्यक्रम: अवसर और विकास

(102, सिल्वर सेंटर, हेम्मरडिंगर हॉल)


सत्र-उद्देश्य: भारत जाकर हिंदी सीखने वाले विद्यार्थियों के लिए कार्यक्रमों का सिंहावलोकन; कार्यक्रमों के लाभ और अवसरों का विस्तार कैसे हो?

संचालन: डा. सुरेन्द्र गंभीर, यूनिवर्सिटी ऑफ़ पेनसिलवेनिया

वक्ता:

डा. हरमन वान ओल्फेन, टेक्सास विश्वविद्यालय, ऑस्टिन

डॉ. यार्लागड्डा लक्ष्मी प्रसाद, उपाध्यक्ष, केंद्रीय हिंदी संस्थान, नई दिल्ली, भारत

डॉ. फिलिप ल्युटेनडोर्फ, आयोवा विश्वविद्यालय, अध्यक्ष, अमेरिकन इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडियन स्टडीज


5:15-6:30 बजे:

विचार गोष्ठी 3: संचार-माध्यमों में हिन्दी

(102, सिल्वर सेंटर, हेम्मरडिंगर हॉल)


सत्र-उद्देश्य: लोकप्रिय संचार माध्यमों, जैसे, अखबार, टीवी चैनल और सिनेमा में हिंदी के प्रयोग की स्थिति और विश्लेषण; अमेरिका में भारतीय मूल के लोगों को ध्यान में रख कर संचार साधनों की स्थापना की संभावनाओं पर चर्चा

संचालन:

अशोक व्यास, प्रोग्राम डायरेक्टर, 'इंडिया टीवी'

वक्ता:

लीलाधर मंडलोई, निदेशक, 'भारतीय ज्ञानपीठ' एवं पूर्व निदेशक, 'आकाशवाणी'

डॉ. वर्तिका नंदा, लेडी श्रीराम कॉलेज, नई दिल्ली


विचार गोष्ठी 4: हिन्दी मूल्यांकन के लिए दिशा-निर्देश और मानक आदि में सुधार

(ज्यूरो लेक्चर हॉल, 101A सिल्वर सेंटर)


सत्र-उद्देश्य: यह सत्र ACTFL और ILR प्रमाणित परीक्षकों और प्रशिक्षकों के लिए है।

संचालन: डॉ. सुषम बेदी, कोलंबिया विश्वविद्यालय, न्यू यॉर्क


6:30-07:30 बजे: रात्रि भोज

(सिल्वर सेंटर, 101, सिल्वरस्टाइन लॉउन्ज)


7:30-21:30 रात्रि: कवि सम्मेलन

(102, सिल्वर सेंटर, हेम्मरडिंगर हॉल)

संचालन: डा. बिजोय मेहता, कवि, अध्यक्ष, अखिल विश्व हिन्दी समिति और डा. बिन्देश्वरी अग्रवाल, न्यू यॉर्क यूनिवर्सिटी



तीसरा दिन: 27 अप्रैल 2014


9:00-10:00 प्रातः -- खुला सत्र 3: समय की मांग: न्यू यॉर्क क्षेत्र में हिंदी केंद्र

(102, सिल्वर सेंटर, हेम्मरडिंगर हॉल)


सत्र-उद्देश्य: हिन्दी और भारतीय संस्कृति सम्बंधित गतिविधियों को बढ़ावा देने तथा अमेरिका में कार्यरत विभिन्न संस्थाओं एवं भारत सरकार के बीच समन्वय स्थापित करने के उद्देश्य से एक केंद्र की स्थापना पर चर्चा।

संचालन:

डॉ वेद चौधरी, एजुकेटर्स सोसाइटी फॉर हेरिटेज ऑफ़ इंडिया

वक्ता:

डा. सुरेन्द्र गंभीर, पेन्सिलवेनिया विश्वविद्यालय

श्री जी सुखलाल, विश्व हिन्दी सचिवालय, मारीशस

डॉ. विजय मेहता, अखिल विश्व हिन्दी समिति, न्यू यार्क


10:00-10:15 बजे -- चाय

(सिल्वर सेंटर, 101, सिल्वरस्टाइन लॉउन्ज)


10:15-12:30 बजे:

विचार गोष्ठी 5: देश और परदेश में हिंदी साहित्य की स्थिति

(102, सिल्वर सेंटर, हेम्मरडिंगर हॉल)


सत्र-उद्देश्य: अमेरिका, कनाडा और कैरिबियन देशों में भारतीय मूल के निवासियों की पहचान के रूप में हिंदी भाषा और साहित्य की परम्परा और वर्तमान अवस्था पर एक नज़रI

संचालन: डॉ सुषम बेदी, कोलंबिया यूनिवर्सिटी

वक्ता:

पंडित राम परसाद परसराम, त्रिनिदाद और टोबैगो

डॉ शैलजा सक्सेना, हिंदी राइटरस गिल्ड, टोरांटो, कनाडा

डॉ फिलिप ल्युटेनडोर्फ, यूनिवर्सिटी ऑफ़ आयोवा


विचार गोष्ठी 6: हिन्दी और प्रौद्योगिकी

(ज्यूरो लेक्चर हॉल, 101A सिल्वर सेंटर)


सत्र-उद्देश्य:  संचार, मनोरंजन और शिक्षा के क्षेत्र में प्रौद्योगिकी के प्रभावी उपयोग और नए तरीकों पर परिचर्चा

संचालन: श्री अनूप भार्गव, ई-कविता समूह

वक्तागण:

डा. जिष्णु शंकर, यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्सास, ऑस्टिन

डा. ज्ञानम् महाजन, यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफ़ोर्निया, लॉस एंजेलेस

डॉ राकेश रंजन, कोलंबिया यूनिवर्सिटी


12:30-1:30 दोपहर: भोजन

(सिल्वर सेंटर, 101, सिल्वरस्टाइन लॉउन्ज)


1:30-3:15 दोपहर:

विचार गोष्ठी 7: हिन्दी के प्रसार के लिए हमारी सामाजिक रणनीति - चुनौतियां और संभावनाएं

(102, सिल्वर सेंटर, हेम्मरडिंगर हॉल)


सत्र-उद्देश्य: भारतीय समुदाय, सरकारी एजेंसियों, निजी संगठन, कारोबार और शैक्षणिक संस्थानों में हिन्दी का चलन और प्रतिष्ठा बढ़ाने के लिए रणनीति और कार्यक्रमों पर चर्चा

संचालन: डॉ बिन्देश्वरी अग्रवाल, न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय

वक्ता:

श्री अनूप महाजन, नेशनल कैपिटल लैंग्वेज रिसोर्स सेंटर

डॉ. वेद चौधरी, एजुकेटर्स सोसाइटी फॉर हेरिटेज ऑफ़ इंडिया

श्री अशोक ओझा, युवा हिन्दी संस्थान

श्री संदीप भुटोरिया, कल्चरिस्ट और सोशल एक्टिविस्ट, भारत


विचार गोष्ठी 8: उच्च शिक्षण संस्थानों में हिन्दी अध्यापन

(ज्यूरो लेक्चर हॉल, 101A सिल्वर सेंटर)


सत्र-उद्देश्य: अमेरिका के विभिन्न विश्वविद्यालयों में हिंदी की उच्च शिक्षा के क्षेत्र में चल रहे कार्यक्रमों पर चर्चा

संचालन: श्रीमती रजनी भार्गव, न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय

वक्ता:

डॉ. रिचर्ड डिलेसी, हार्वर्ड विश्वविद्यालय, कैम्ब्रिज

श्री आनंद द्विवेदी, लाऊडर संस्थान, यूनिवर्सिटी ऑफ़ पेनसिलवेनिया

डा. शाहीन परवीन, रटगर्स विश्वविद्यालय, न्यू जर्सी


3:30-04:30 बजे - समापन सत्र

(102, सिल्वर सेंटर, हेम्मरडिंगर हॉल)


संचालन: श्री शंभू अमिताभ, वाइस कौंसुल, भारत के महावाणिज्य दूतावास, न्यूयॉर्क

सम्मेलन समीक्षा – योजनाएं और पहल: डा. गैब्रिएला निक इलिएवा, न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय

वक्तव्य: श्रीमती सुनीति शर्मा, उप सचिव (हिंदी), विदेश मंत्रालय, नई दिल्ली

प्रशस्ति-पत्र प्रस्तुति एवं ग्रूप फोटो

समापन भाषण: श्री ज्ञानेश्वर एम. मुले, भारत का प्रधान कौंसुलावास, न्यू यॉर्क

धन्यवाद ज्ञापन: श्री सुगंध राजाराम, मुख्य संयोजक, अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्रीय हिन्दी सम्मेलन 2014