Documents

We are publishing all articles, documents with the permission of the authors, all have extended their support to the conference, even though many are not able to attend.

All documents from presenters will be available on this page.

Presenters: Please send us your presentation document as a PDF or Word documents on the day of your presentation or right after you present. Please convert your Powerpoint or Keynote presentations into a PDF and make sure that all Hindi text is legible before sending us the files. We will not be able to upload large files or files with the Hindi text that is not legible. Please make sure to send your file to hindiconferencenyc2014@gmail.com. Thank you.


Prof Santosh Satya and Dr. Neeraj Kumar Chaurasia: Abstract:  Experience based Innovative Model for Promoting Hindi in Higher Technical-Educational Institutions   Presentation: Please Download Document Here

Rekha Sethi: Please Download Document Here

Harsh Bala Sharma: Please Download Document Here

Amita Sharma: Please Download Document Here

Dr. Ramapati Tiwari and Bikas Pandey:  Abstract


Abstracts (in alphabetical order)

 

Kaitlin D'Agostino, Rutgers University Alumna
Hindi as a Professional Path in the Translation Business: Transcending New Opportunities

As Hindi becomes more widely used in the United States, there is an increasing need for more translation professionals who specialize in Hindi and English for the United States.  By working in the translation business, many opportunities are unveiled for Hindi students who would like to utilize language arts in their career path and further their opportunities professionally in all respects.  A career in the translation industry can give you the tools you need to succeed as a translator and a working professional in the legal, business, medical, marketing, and pharmaceutical fields with experience that both provides a generous background in international business and dialogue.  Furthermore, by utilizing a language and cultural degree, the status of the Hindi language can achieve a greater economic, political, and legal balance for the world and a path for professional success for the individual.

Dr. Baburam, Head Dept of Hindi, Kuruksehtra University Kuruksehtra, Haryana, INDIA
Hindi ka Barhta Sansar  Sambhavnai aur chunotiyan ka sar

Abstract available as a downloadable PDF

Sarla Choudhary, Rajkiya Mahavidyalaya, Jaipur, Rajashthan, INdia

Document available as a downloadable PDF

Dr. Vijay Gambhir
The National Standards For Learning Hindi: Theory and Application

This panel will focus on the key principles of the revised national standards for learning languages and developing standards-aligned instructional materials for Hindi & Urdu at all levels of instruction. There will be four presentations. Dr. Vijay Gambhir of the University of Pennsylvania will talk about the revised national standards for learning Hindi and their connection with the second language acquisition research. Dr. Sungok Hong of the University of Minnesota will discuss the principles of developing standards-based Hindi & Urdu materials to promote students' linguistic and cultural knowledge. Dr. Nilakshi Phukan of North Carolina State University will demonstrate how to develop learners' communicative ability through engaging short video movies she has created for Novice, Intermediate and Advanced level learners of Hindi & Urdu. Dr. Mohan of Central Hindi Institute at Agra will present an Indian perspective on creating and implementing standards based Hindi materials. 

Dr. Sarita Mehta, Lecturer in Hindi, Rice University, Center for Languages and Intercultural communication
Reactive token in Hindi Language: Proposal for developing conversational Skills in target language

This work examines the issues that concern Hindi Language learners to become fluent, and  will looks at ways of encouraging and motivating learners, explores issues relating to developing Hindi conversational skills, course material and tasks based on functional approach to language learning. It will explain  the interconnection between the linguistic form of reactive token and their associated conversational actions in Hindi conversation.The overall goal is to develop an understanding  by examining the following topic commonly used in ; turn- taking, holding onto, and relinquishing ‘the floor’ in conversation.  It can be concluded that seemingly trivial, reactive tokens are more significant in Hindi conversation than one may assume.

Christi Merrill, associate professor of South Asian Literature and Postcolonial Theory at the University of Michigan
Reading Contemporary Hindi Literature Across Languages

What attracts multilingual speakers (and even non-native speakers) to write in Hindi? What unique possibilities does the language offer today, and how might future writers take advantage of these features? I will suggest a few possible answers to these questions by focusing on the example of the Marathi-speaker Kausalya Baisantry whose 1999 “life story” [jivan ki katha] Dohara Abhishap is ground breaking as an account that has insisted on a perspective both explicitly feminist and self-consciously dalit. My contention is that an overtly political project such as Baisantry’s is not only helped by the status of Hindi as a national language, but also – and more importantly – that this political project turned literary endeavor helps strengthen the status of Hindi. I will use her example to read the most vital strand of the history of Hindi literature this past century as necessarily working across languages, in a manner that is both political and literary at once. I contend that such efforts to express previously marginalized experiences enrich the language in ways that go beyond the individual example. Just as Premchand’s novels and short stories enabled readers to imagine in evocative cadences the longings and struggles of an increasingly broad range of actors in the years leading up to Independence, and Phanisharnath Renu’s prose introduced readers --- beautifully, excruciatingly -- to the realities and rhythms of the “maila anchal” shortly after Independence, so too does Baisantry’s writing forge new possibilities for the “imagined community” that is Hindi at the start of the 21st century.

Vishnu Nagar विष्णु नागर

हिंदी में अनुवादों की समृद्ध परंपरा है
विष्णु नागर

हिंदी की छवि अपने समय के कुछ ताक़तवर तथाकथित हिंदी सेवियों के कारण भले ही यह बनी हो कि हिंदीभाषी लोग आत्मकेंद्रित हैं मगर सच्चाई यह है कि जहाँ तक दूसरी भारतीय भाषाओं और विदेशीभाषाओं से अनुवाद का सवाल है हिंदी एक समृद्धतर भाषा है,खुली हुई भाषा है,वाक़ई वैश्विकृत भाषा है। और आज से नहीं पिछली सदी के आरंभिक वर्षों से उसकी उदारता का सिलसिला शुरू होता है।आज यह बहुत हद तक सच है कि हिंदी के प्रति दूसरी भाषाओं ने भले ही अनुदारता दिखाई हो,उसमें लिखे महत्वपूर्ण साहित्य की अनदेखी की हो,उसमें प्रकाशित साहित्येतर ग्रंथों की अवहेलना की हो मगर इससे अप्रभावित रहकर हिंदी में दूसरी भाषाओं से अनुवाद का काम आज भी तेज़ी से जारी है और बड़े पैमाने पर यह काम बग़ैर संस्थानिक समर्थन के  लोगों ने अपनी पहल पर किया है और ख़ुद ही प्रकाशन का दायित्व भी निबाहा है।ऐसी उदारता के दर्शन अन्यत्र दुर्लभ हैं।और अनुवादों का यह विशाल भंडार किसी आत्महीनता के चलते नहीं हुआ है बल्कि दुनिया में जो भी आज हो रहा है,उससे सीखने-समझने के लिए हुआ है और इसका लाभ यह हुआ है कि हिंदी साहित्य भाषिक दृष्टि से ही नहीं बल्कि कथ्य के नज़रिये से भी समृद्ध है, उसमें विविधता है,एक क़िस्म से वैश्विक संवाद है।

हम महावीर प्रसाद द्विवेदी को एक तरह से आधुनिक हिंदी का निर्माता और संपादक मानते हैं और उनके द्वारा प्रकाशित पत्रिका सरस्वती अपने समय की समृद्तम पत्रिका में थी,जिसकी चर्चा के बग़ैर हिंदी साहित्य और पत्रकारिता का इतिहास पूरा नहीं होता।उन्होंने साहित्येतर रचना संपत्ति शास्त्र का अनुवाद हिंदी में किया था और सरस्वती में कई लेख ऐसे छपे हैं जो दरअसल उस समय के प्रसिद्ध लेखकों के अनुवाद या भावानुवाद हैं।रामचंद्र शुक्ल जैसे हिंदी के बड़े आलोचक ने अपने समय में कई अनुवाद किए,जिसमें राखलदास बंदोपाध्याय के दो बांग्ला उपन्यासों का अनुवाद ही उन्होंने नहीं किया बल्कि मूल लेखक की कुछ कमियों की ओर इशारा करते हुए उन्होंने अपनी लंबी भूमिका में ही नहीं रचना में भी कुछ तथ्यगत ग़लतियों का सुधारा भी,हालाँकि ऐसा करना कितना उचित है या नहीं है,यह अलग बहस का विषय है।हमारे ही नहीं सब समयों के बड़े कथाकार प्रेमचंद तक ने भी अनुवाद किये हैं।राहुल सांकृत्यायन ,रामविलास शर्मा,हरिवंश,राय बच्चन,अमृत राय,भीष्म साहनी,हज़ारी प्रसाद द्विवेदी,मोहन राकेश ,राजेंद्र यादव,रघुवीर सहाय,श्रीकांत वर्मा,निर्मल वर्मा,अशोक वाजपेयी, विष्णु खरे,असग़र वजाहत,मंगलेश डबराल,असद ज़ैदी ,नरेंद्र जैन,अब्दुल बिस्मिल्लाह,जितेंद्र भाटिया,आनंद स्वरूप वर्मा,राजेश जोशी,राधावल्लभ त्रिपाठी ,यादवेंद्र,अनुराधा महेंद्र ये कुछ ही नाम हैं जो अपने तौर पर सम्मानित लेखक भी हैं और जिन्होंने समय-समय पर  अच्छे अनुवाद भी किये हैं।भीष्म साहनी ने तो लगभग सात वर्ष तक तत्कालीन सोवियत संघ में रहकर बतौर अनुवादक काम किया। बरेली कालेज के एक अध्यापक भोलेनाथ शर्मा का काम भी अनुवाद के क्षेत्र में उल्लेखनीय है जिन्होंने गोयथे के फाउस्ट और प्लेटो के रिपब्लिक का अनुवाद मूल भाषाओं से किया,हालाँकि वे अज्ञात से रह गये।संस्कृत का लगभग सारा साहित्य हिंदी में उपलब्ध है जिसका श्रेय किसी एक को नहीं दिया जा सकता लेकिन उदाहरण के लिए यहाँ संस्कृत के अप्रतिम विद्वान राधावल्लभ त्रिपाठी का नाम लिया जा सकता  है जिन्होंने संस्कृत की लोकधर्मी काव्य परंपरा को प्रकाश में लाने का काम निरंतर किया है और जो वर्षों से वे नाट्यम पत्रिका प्रकाशित कर रहे हैं जिसमें संस्कृत के ज्ञात और अज्ञात तमाम नाटकों को हिंदी में लाने का काम हुआ है।लखनऊ के लगभग अज्ञात भुवनवाणी ट्रस्ट ने रामायण के जो विविध रूप विभिन्न भाषाओं में उपलब्ध हैं उन्हें प्रकाश में लाने का काम किया है। हिंदी के एक समर्पित प्रकाशक श्याम बिहारी राय चुपचाप ढँग से अपने प्रकाशन से ग्रंथ शिल्पी के माध्यम से अंग्रेज़ी में उपलब्ध ऐसे तमाम ग्रंथों का  प्रकाशन किया है,जो साहित्य से इतर विषयों के हैं।यह काम वह क़रीब दो दशकों से कर रहे हैं।राजकुल  प्रकाशन,वाणी प्रकाशन  जैसे निजी प्रकाशकों के अलावा साहित्य अकादमी,नेशनल बुक ट्रस्ट,तमाम राज्यों की ग्रंथ अकादमियों आदि ने भी महत्वपूर्ण काम देशी-विदेशी साहित्य को लाने का किया है।यहाँ भूतपूर्व सोवियत संघ के योगदान को भी विस्मृत नहीं किया जा सकता ,जिसने साहित्य,विज्ञान और ज्ञान के विभिन्न क्षेत्रों में भारतीयों को उनकी भाषाओं में अच्छी और सस्ती पुस्तकें उपलब्ध कराईं।
हिंदी की पत्रपत्रिकाएं  विशेष रूप से साहित्यिक पत्रिकाओ ने अनुवाद को अपने एक दायित्व के रूप में लिया है। हिंदी की शायद ही कोई पत्रिका हो,जो साहित्य या साहित्येतर पुस्तकों के अनुवाद या कुछ अंश नियमित रूप से प्रकाशित न करती हो।बंसी माहेश्वरी क़रीब दो दशकों से एक पत्रिका तनाव प्रकाशित कर रहे हैं जिसने अपने सौ से भी अंकों में विश्व के हर हिस्से की श्रेष्ठ कविता उपलब्ध करवाई है। और पिछले कुछ वर्षों से विश्व साहित्य को सामने लाने का काम आग्नेय जैसे वरिष्ठ कवि भी अपनी पत्रिका के माध्यम से कर रहे हैं।कथन पत्रिका की भूमिका को भी नहीं भूला जा सकता,जो दुनिया में चल रही तमाम बौद्धिक हलचलो को समेटती है।
आज इन तमाम प्रयासों का फल है कि हम दूसरी भारतीय और विदेशी भाषाओं कि ज्ञानात्मक ओर साहित्यिक गतिविधियों से किसी हद तक परिचित हैं।बांग्ला के कई लेखकों को तो हम बचपन से पढ़ते आ रहे हैं और कई लेखक तो हिंदी में प्रकाशित होकर दूसरी भारतीय भाषाओं में जाने गए हैं और कुछ पहले हिंदी में छपे हैं, बाद में बांग्ला में। इस संदर्भ में विमल मित्र का नाम सबसे ऊपर आता है।बांग्ला की और भारत की बड़ीं लेखिका महाश्वेता देवी हिंदी को यह श्रेय देती आई हैं कि उसने उन्हें भारतव्यापी और विश्वव्यापी लेखक बनाया।यू़आऱ अनंतमूर्ति,गिरीश कर्नाड ,शिवराम कारंत,विजय तेंदुलकर,श्री श्री आदि भारतीय भाषाओं के लेखकों के साथ ही मार्क्वेज,नेरुदा,ब्रेख़्त,नाज़िम हिकमत,ग्राहम  ग्रीन,चेखव,टायलस्टाय,पुश्किन,गोयथे,बोर्खेस,शेक्सपियर,सर्वांतिस,ख़लील जिब्रान,हेमिंग्वे,मार्क ट्वेन , चार्ल्स डिकेंस,मोपांसा,ओरहान पामुक,सलमान रशदी वी एस नायपाल,ग़ालिब,फ़ैज़ अहमद फ़ैज़,गैब्रिएला मिस्त्राल,मंटो,अमर्त्य सेन,लु शुन आदि हिंदी के लेखक की चेतना का अंग बनाया है तो इसका बहुत कुछ श्रेय विश्व और भारत में जो भी उत्कृष्ट है उसे सामने लानेवाले हिंदी अनुवादकों को है जिनमे से बहुत से स्वयं लेखक भी हैं।

Shaheen ParveeN, Rutgers University, New Jersey

The presentation will demonstrate how to develop learners' communicative ability and cultural understanding through creating and implementing IPA based lessons for all proficiency levels. ACTFL Integrated Performance Assessments are the assessment tools that define how to measure students’ progress toward the standards. The ACTFL IPAs measure three modes of communication: interpretive, interpersonal, and presentational. Different tasks measure each of these communicative abilities, and offer students the opportunity to engage complex cognitive skills such as problem solving and making inferences. The goal is to move away from assessments that test passive knowledge such as recognizing the correct answer, rather than producing it. ACTFL IPAs offer students learning choices and culminate in performance. Interpretive tasks measure student’s comprehension of authentic texts. Interpersonal tasks assess students’ ability to exchange ideas orally about the designated theme using information gathered from the interpretive piece. Finally, presentational tasks allow students to share ideas, research, and opinions with an audience, either in writing or orally. These provide a more comprehensive assessment of a student’s ability to use the language in real world contexts.

Teju Prasad

“Hindi Script” is an iPad/iPad-mini application designed to teach the Hindi (Devanāgarī ) letters and basic vocabulary by providing an opportunity to trace each letter, and ensuring the user draws each letter correctly. Audio accompanies each sound and word to ensure proper pronunciation is provided. The presentation will walk through the app’s letter drawing screens, progress indicator, vocabulary section, and assessment section, as well as discuss the comparison to other apps.

Dr. Nilakshi Pukhan
Hindi-Urdu Conversational Movies Using ACTFL Proficiency, Directed by Dr. Nilakshi Phukan FLL, North Carolina State University

The primary goal of my presentation at International Hindi conference is to demonstrate how an instructor can guide the students using a described path to acquire the language skills through real life examples in parallel to the grammar-based contents. Based on the ways and techniques recommended by ACTFL (American Council on the Teaching of Foreign Languages), my presentation will also emphasize on the topics such as how to create an effective syllabus, introduce new vocabulary, work on passage, learning activities: drills and oral activities, how to engage in conversation based on day-to-day life themes, cultural information, review of the topics, conduct test, create skits, audio reply etc.
I received the opportunity to attend the ACTFL workshops at NC State University in 2012. After attending the ACTFL workshops I felt the revolution of learning a new language in academic level. The new ways and the techniques showed by the ACTFL emphasized on giving students lots of opportunity to learn by introducing real life situations. Based on these fundamental knowledge gained at ACTFL, I made 27 Hindi-Urdu conversational movies on different real life topics with the support of the department of foreign languages and literatures at NC State. These movies are about 5-7minutes long where the student can watch and learn how two native speakers talk about various situations. The concepts of these movies are based on a pattern of question answers to simulate real world conversation; where a person asks questions to know about another person or subject.  While the native speakers converse to each other in the movie, closed caption (in both Hindi and Urdu language) is provided at the bottom of the screen. It allows the students to see the dialogs in both Hindi-Urdu scripts and learn new vocabularies with spelling. At the end of each video, questions were asked so that the student can practice question answer pattern on their own. The main goal of this section is to improve student’s fluency in both languages.

These movies are posted on NC State mediasite along with You Tube. Following are the links: NCSU Mediasite:
(http://chass.online.ncsu.edu/online/Catalog/Full/f363f825ec884fa4bb00519a08f6bbf921/?state=hJPoFVPk0EELT0QJ10K0)

You Tube Links:

Novice Level:
https://www.youtube.com/playlist?list=PL1489DD7C4B0AEDC3
Intermediate Level:
http://www.youtube.com/playlist?list=PL77E90403BCCCF906
Advanced Level:
https://www.youtube.com/playlist?list=PLveLz7FIFiWsz8cgCmMn1TiVM9fvjWdzF
Superior Level:
https://www.youtube.com/playlist?list=PLveLz7FIFiWsswLfQdDgt2uOt-hLQJk0d

 

Rekha Sethi
उच्च शिक्षा में हिंदी
(दिल्ली के विशेष सन्दर्भ में)

‘भारत एक बहुभाषिक और बहु-सांस्कृतिक देश है’-- यह वाक्य जितना सरल दिखता है, अर्थ की दृष्टि से उतना ही जटिल है । भारतीय परिवेश में बहुभाषिकता सामाजिक भी है और वैयक्तिक भी । दिल्ली जैसे महानगर में भाषा की विशिष्ट स्थिति है । यहाँ भाषा के कई रंग एक दूसरे में इस तरह घुल-मिल गए हैं कि किसी एक भाषा की शुद्धता का आग्रह केवल पाठ्य-पुस्तकों तक सीमित रह गया है । दिल्ली की हिंदी में पंजाबी से लेकर हिंदी पट्टी की बोली-वाणी के विविध रूप मौजूद हैं। साथ ही ग्लोबल होने की होड़ में अंग्रेजी का वर्चस्व भी बढ़ रहा है । ऐसे परिवेश में माध्यम भाषा के रूप में हिंदी का विकास अनेक संभावनाओं एवं चुनौतियों को एक साथ उजागर करता है ।
शिक्षा के क्षेत्र में भारतीय समाज एक बहुत बड़ी क्रांति के मुहाने पर खड़ा है। सर्वशिक्षा अभियान के परिणामस्वरुप विश्वविद्यालयों में अलग-अलग वर्गों के छात्रों का प्रवेश हुआ है । यह वह बिंदु है जहाँ भाषा का प्रश्न सामाजिक न्याय का प्रश्न बन जाता है । अपनी भाषा में विविध विषयों की शिक्षा की माँग लगातार बढ़ रही है। दिल्ली विश्वविद्यालय इस सन्दर्भ में देश का अग्रणी विश्वविद्यालय है जिसमें देश के सुदूर प्रान्तों से विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण करने आते हैं । इसके अंतर्गत ७० कॉलेज शामिल हैं । विश्वविद्यालीय स्तर पर यह कोशिश जारी है कि सभी विद्यार्थियों को मुख्यधारा में शामिल करने के लिए भाषिक अवरोधों को दूर किया जाए और इसमें हिंदी के विकास की महत्वपूर्ण भूमिका है । हम अपने शोध-पत्र में इन सभी प्रयत्नों का अधिकारिक लेखा-जोखा (आंकड़ों सहित) प्रस्तुत करेंगे ।
दिल्ली में, दिल्ली विश्वविद्यालय के अतिरिक्त अनेक बड़े उच्च शिक्षा संस्थान हैं, जैसे :
जवाहर लाल नेहरु विश्वविद्यालय
जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी
गुरु गोबिंद सिंह इन्द्रप्रस्थ विश्वविद्यालय
भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT)
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संसथान (AIIMS)
राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय (NLUD)
इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय
भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय
माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय (NCR)

इन सरकारी संस्थाओं के साथ-साथ निजी क्षेत्र में बहुत-सी संस्थाएं शिक्षा के क्षेत्र में सक्रिय हुई हैं । उनमें बहुत से संस्थान हिंदी में कम्प्यूटर, मीडिया, मार्केटिंग आदि की शिक्षा दे रहे हैं। रोज़गार के बाज़ार में हिंदी की संभावनाओं का विस्तार होने से, विशेषत: अनुवाद, जनसंचार, विज्ञापन तथा सिनेमा की दुनिया में, छात्रों में हिंदी के प्रति सचेतता जागी है ।
ग्लोबल स्तर पर प्रौद्योगिकी ने हिंदी को विकास एवं विस्तार के नए क्षितिज प्रदान किये हैं । गूगल तथा अन्य सूचना प्रौद्योगिकी के माध्यमों ने हिंदी के प्रयोग को सरल बना दिया है, इसका प्रभाव भी उच्च शिक्षा में हिंदी के विकास को बढ़ाने में कारगर सिद्ध हुआ है। हमारा प्रयत्न है कि इन सब दृष्टि बिन्दुओं को समेट कर कुछ ऐसे आंकड़ें जुटाएं कि उच्च शिक्षा में हिंदी माध्यम को जो गति मिली है उसका सही मूल्यांकन संभव हो सके ।
हमारी शोध प्रविधि यह रहेगी कि इन सभी महत्वपूर्ण सरकारी एवं गैर-सरकारी संस्थाओं से जानकारी इकट्ठी कर उसका उचित विश्लेषण करें जिससे सही निष्कर्ष सामने आयें । यह प्रस्तुति पॉवर पॉइंट के माध्यम से प्रस्तुत की जायेगी । इच्छुक पाठकों के लिए लिखित शोध-पत्र भी वितरित कर दिया जायेगा |
वर्तमान सरकार राष्ट्रीय शिक्षा नीति में भारतीय भाषाओँ को प्राथमिकता दे रही है । प्रस्तावित नीतिगत परिवर्तन क्या हैं तथा इनके दूरगामी प्रभाव हिंदी की स्थिति को कैसे मज़बूत करेंगे इसका विवरण भी हमारी प्रस्तुति का आधार-बिंदु बनेगा । इसके अतिरिक्त हिंदी विषय को समर्पित संस्थानों --केन्द्रीय हिंदी संस्थान तथा केन्द्रीय हिंदी निदेशालय की हिंदी के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका का भी आकलन किया जाएगा |
---प्रस्तुति  
डॉ. रेखा सेठी
एसोसिएट प्रोफेसर
इन्द्रप्रस्थ कॉलेज
दिल्ली विश्वविद्यालय

Harsh Bala Sharma

सूचना प्रोद्योगिकी युग में भाषा शिक्षण की नवीन प्रविधियां: प्रस्ताव एवं चुनौतियाँ

        आज के सूचना प्रोद्योगिकी के युग में भाषा शिक्षण के प्रश्न अत्यंत महत्वपूर्ण हैं जहाँ यथार्थ जीवन की व्यवहारिक भाषा तथा सैद्धांतिकी की भाषा भिन्न होती जा रही है. पॉपुलर समाज की भाषा का विकासक्रम मात्र भाषिक-साहित्यिक गतिविधि तक सीमित न रहकर लेखन, कला, रंगमंच और अन्य व्यवसायों तक हुआ है. सूचना युग में तकनीक के असीमित विस्तार ने न केवल भाषा को पंख दिए हैं बल्कि मानव मस्तिष्क के माध्यम से उन भाषिक पंखों का विस्तार भी किया है. इंटरनेट और तकनीक के माध्यम से ब्लॉग लेखन तक भाषा का विस्तार हो रहा है, साहित्य की भाषा बदल रही है, भाषा की प्रयोजनामूलकता का प्रश्न केन्द्रीय प्रश्न केन्द्रीय प्रश्न बन रहा है और भाषा चिंतन और समझ का विस्तार हो रहा है. जाहिर है आवश्यकता अरण्य रोदन की नहीं बल्कि शिक्षण की पद्यतियों व प्रविधियों में परिवर्तन की है.
भाषा का सीधा संबंध शिक्षा से है. जिस देश की भाषा में ही शिक्षा दी जाती है और जिस देश की भाषा उसकी शिक्षा पद्यति से काट दी जाती है, उन दोनों देशों के स्वाभिमान की कहानी सदैव भिन्न होती है. भारत में भी भाषा शिक्षण के प्रश्न में यह समझना जरूरी है कि भाषा शिक्षण क्या हिंदी शिक्षण का भी प्रश्न है या इसे किसी भी भाषा के सन्दर्भ में समझा जा सकता है? जाहिर है कि भाषा से यहाँ मेरा अभिप्राय हिंदी भाषा से मुख्यत: और अन्य भाषाओँ से गौणत: है.
             यहाँ भाषा शिक्षण की चुनौती भाषा नीति (Language Policy) के प्रश्न से भी जुड़ी हुई है. क्योंकि जिस समाज का भाषा के साथ जैसा संबंध होगा वो उसी के अनुसार भाषा नीति और भाषा शिक्षण की प्रविधियों का चयन करेगा. यह भी सत्य है कि भारत जैसे बहुभाषी देश में किसी एक पद्यति के आधार पर ही भाषा को पढ़ने-पढाने की निश्चित प्रविधि नहीं बनाई जा सकती. परन्तु फिर भी भाषा पढ़ाते हुए तथा शिक्षण की नवीन प्रविधियों का प्रयोग करते हुए मैं इस प्रपत्र के माध्यम से दो पद्यतियों पर विशेष बात करना चाहूंगी.
Communicative Language Teaching(CLT)Methodology
Motivational Language Teaching Methodology
पहली पद्यति जहाँ in माध्यम पर बल देती है वहीं दूसरी पद्यति अधिगम प्रक्रिया को केन्द्र में रखती है. इस प्रपत्र में दोनों पद्यतियों की विशिष्टताओं और दोनों के मिले जुले रूप से बनी नयी प्रयोगात्मक पद्यति की चर्चा की जाएगी. साथ ही भाषा शिक्षण की कक्षा से कुछ Live sampling के नमूने भी प्रस्तुत किए जाएँगे.
इसके अतिरिक्त व्याकरण-अनुवाद प्रविधि, प्रत्यक्ष विधि, भाषा-श्रवण विधि, शारीरिक क्रियाओं पर आधारित अभ्यास तथा मूक विधि के साथ उपर्युक्त विधियों की तुलना करते हुए बेहतर प्रविधि प्रस्तावित करने का प्रयास किया जाएगा.
इस प्रपत्र का मूल उद्देश्य शुद्धतावादी एप्रोच के स्थान पर गलतियों को learning process के एक हिस्से के रूप में स्वीकार करते हुए fluency और विकास को लक्ष्य के रूप में प्रस्तावित करना है जिससे रचनात्मकता को जीवन का भाग मानते हुए भाषा शिक्षण से जोड़ा जाए और रचनात्मक अंदाज में भाषा प्रयोग को स्वीकृत करने हेतु मानसिकता का निर्माण किया जाए.
इस प्रपत्र में तीन पद्यतियों का प्रयोग किया जाएगा---
१-तुलनात्मक पद्यति
२-भाषा के नमूनों का एकत्रीकरण और उसके माध्यम से भाषा की पद्यति का प्रस्ताव
३- भाषा नीति के अनुरूप नवीन पद्यतियों की चर्चा


प्रस्तुति
डॉ. हर्ष बाला शर्मा
असिस्टेंट प्रोफ़ेसर
इन्द्रप्रस्थ कॉलेज
दिल्ली विश्वविद्यालय

Dr. Brij Mansi & Dr. Amita Tiwari
Topic: Role of the Hindi TV and the Hindi Cinema as sources of Authentic Materials for Teaching the Hindi Language.

The acquisition of native or near native communicative competence is the basic purpose of learning a foreign language. To understand historical and socio-cultural contexts in the target language, it becomes imperative that students should be exposed to the authentic materials at the level appropriate. This is widely accepted fact that in communicative approach of teaching a foreign language, use of appropriate authentic materials is essential for the development of all communicative skills at proficiency level.
After defining the term Authentic Materials, this paper will deal with the questions such as, the validity of its use, and the right selection of the Authentic Materials. Main focus of this paper will be on the discussion of role of the Hindi T.V and the Hindi Cinema as powerful sources of Authentic Materials, and how to use them effectively for the optimal benefits for Hindi learners.

Prof. Keshari Lal Verma

Summary: The Commission for Scientific & Technical Terminology was set up on 1st October, 1961 by the Presidential Order. As per the mandate, the duties and functions of the Commission are to evolve and define scientific and technical terms and publish technical dictionaries/ glossaries/definitional dictionaries and encyclopaedias; to propagate proper uses of terminological work through workshops, training programmes, orientation programmes, seminars, conferences etc.; to endeavour to attain uniformity of terminology in coordination with all State Governments and their agencies and to publish university-level books on various subjects through Hindi Granth Academies and University Cells of different States. As such, the Commission is involved for development of Hindi and other Indian languages especially in higher education. The possibilities of establishing and expanding Hindi language at a World stage and various challenges faced by it in the 21st century will be discussed in detail.


M J Warsi, Washington University in St. Louis
Issues in Literary Translation: An Experiment with Premchand’s “kafan”

Translation plays an important role in developing one’s competence to have a better understanding of cultural diversity through the meaning and expressions of literary text in any given language. This paper argues that translation has a bigger role in language pedagogy. The bigger question is; to what extent a translator justifies in translating the regional variants, local registers, feeling and emotions from one language to another language?

This paper will look into some of the expressions used in well-known piece of writing “kafan” by Premchand and its translation from pedagogical perspective. Also, we will try to see how these translations facilitate teaching literature effectively.

Dr. Warsi's email: mwarsi@wustl.edu


PANELS

Hindi for Professional Purposes: Trends in India’s Business Culture

There are four presenters on this panel. The panel explores how multilingual India accomodates multiple languages in various domains of business and why and how academic institutions in the United States are beginning to prepare their professionals to deal effectively with the multilingual situation there. Here is a brief summary of each presentation.

1. भारत के व्यावसायिक प्रयोग-क्षेत्रों में भाषाई संतुलन  (Communicative Equilibrium in Business Domains of India) – Surendra Gambhir, University of Pennsylvania.

इस प्रस्तुति में भारत के व्यावसायिक जगत् में प्रयुक्त विभिन्न भाषाओं के प्रयोग और आपसी संबंधों व क्रिया-कलापों की चर्चा होगी। आंकड़ों के आधार पर और भाषा-प्रयोग के क्षेत्रों के विश्लेषण के आधार पर एक ऐसे परिदृश्य को स्थापित किया जाएगा जिसमें भारत में द्रुतगति के साथ बदलते हुए व्यावसायिक समुदायों के साथ सफल संबंध बनाने के लिए अंग्रेज़ी के अतिरिक्त हिन्दी के अनिवार्य महत्व को प्रतिपादित किया जाएगा।
This presentation discusses interactional view of language use in the business world of India. Based on demographic data and an analysis of business domains, an emergent scenario calls for going beyond English for establishing successful connections in India’s fast changing business communities.
   

2. हिन्दी भाषा शिक्षार्थियों के लिए विदेश में शिक्षण, प्रशिक्षण तथा अनुशीलन (Education Abroad for Hindi learners: Pedagogy & Practice) – Haimanti Banerjee, Lauder Institute of Management and International Studies, University of Pennsylvania

विद्यार्थियों के लिए व्यावसायिक अध्ययन पर केन्द्रित रहते हुए हिन्दी भाषा में गहरी भाषाई अनुभूतियों के लिए कैसी प्रबंधकीय योजनाएं अपेक्षित हैं - यह प्रस्तुति उसी सोच के बारे में है। इस प्रस्तुति में ऐसी योजनाओं की गतिशीलता और शैक्षिक आयामों को खोजने की प्रक्रिया की विशद व्याख्या होगी और ऐसी प्रक्रिया जो शिक्षार्थियों के लिए भी सार्थक हो और शिक्षा-संस्थानों या कार्यक्रमों के उद्देश्यों को भी पूरा करती हो।
This paper addresses considerations to be kept in mind while planning immersion experiences for students learning Hindi with a focus on business studies. It will explore dynamics of planning and the pedagogical dimensions of such an immersion that is meaningful to the learners and which also addresses program/institute objectives.

3. व्यावसायिक हिंदी शिक्षण के आयाम और इसकी रूपरेखा (Business Hindi Instruction: Dimensions & Outline) – Anand Dwivedi, Lauder Institute of Management and International Studies, University of Pennsylvania 

व्यावसायिक प्रबंधन संस्थानों में भाषा शिक्षण पाठ्यक्रम का अभिविन्यास सामान्य रूप से विश्वविद्यालयों में पढ़ाई जानेवाली भाषा-पाठ्यक्रम से कई मामलों में अलग होता है।  विद्यार्थियों के विशेष व्यवसाय संबंधित लक्ष्य और आवश्कताएँ और उनकी भाषा की प्रवीणता के स्तर अनुरूप इसका स्वरूप निर्धारित होता है। इस प्रस्तुति में है लाउडर इंस्टच्यूट में हिंदी भाषा शिक्षण के विभिन्न आयाम और शिक्षण से जुड़ी चुनौतियों की एक व्याख्या।
This presentation will discuss and illustrate the designing of a curriculum centered on the needs and proficiency level of business students studying business Hindi at the Lauder Institute of the University of Pennsylvania. He will share various dimensions and challenges involved in the process of designing such a curriculum.  

4. निमिश शुक्ला - Lauder Institute of Management and International Studies, Univ. of Pennsylvania

लाउडर इंस्टच्यूट और वार्टन स्कूल में एक ग्रेजुएट विद्यार्थी की हैसियत से अपना दृष्टिकोण प्रस्तुत करते हुए इस बात की चर्चा करेंगे कि उनकी व्यावसायिक पढ़ाई के साथ साथ हिन्दी भाषा में प्रवीणता कैसे सार्थक सिद्ध हो रही है।
Nimish Shukla, a graduate student at the Wharton School will present his perspective on integrating Hindi proficiency with his business studies.

5. Annual Programme for implementation of the Official Language Policy in
Banks in India, New York - Praveen Kumar, State Bank of India

An annual programme to accelerate the spread and development of Hindi and its progressive use for the various official purposes of the Union is formulated by the Government of India every year. All public sector banks including State Bank of India prepare a detailed programme for their offices and branches in India on the lines of programme chalked out by the Government of India, because, in accordance with Official Language Rules 1976, for the purpose of implementation of Official Language Policy, banks are considered as Central Government offices and its employees as Central Government employees. There is no doubt about the progress made in carrying out official business in Hindi, targets are, however, yet to be achieved. The target is that all members of staff do their official work originally in Hindi and need for translation does not arise. This is the true spirit of the Constitution. Needless to say that doing official work in the people’s Language will speed-up development and also bring transparency in administration. No language, in this age, can flourish unless it associates itself with IT and other technical subjects. Hence use of Hindi needs to be encouraged in these areas. Use of easy and simple language will pave the way for Hindi in banks, and would be helpful for common man in understanding the technical subjects properly. It is evident that with the advent of Unicode, it has become far easier to maximize use of Hindi in banks through computer, e-mail and website. Achieving various targets of annual programme for implementation of official language policy is also important from the point of Bank's mission of excellence in customer service while continuously performing its developmental banking role as a committed premier financial services group of India.

An annual programme to accelerate the spread and development of Hindi and its progressive use for the various official purposes of the Union is formulated by the Government of India every year. All public sector banks including State Bank of India prepare a detailed programme for their offices and branches in India on the lines of programme chalked out by the Government of India, because, in accordance with Official Language Rules 1976, for the purpose of implementation of Official Language Policy, banks are considered as Central Government offices and its employees as Central Government employees. There is no doubt about the progress made in carrying out official business in Hindi, targets are, however, yet to be achieved. The target is that all members of staff do their official work originally in Hindi and need for translation does not arise. This is the true spirit of the Constitution. Needless to say that doing official work in the people’s Language will speed-up development and also bring transparency in administration. No language, in this age, can flourish unless it associates itself with IT and other technical subjects. Hence use of Hindi needs to be encouraged in these areas. Use of easy and simple language will pave the way for Hindi in banks, and would be helpful for common man in understanding the technical subjects properly. It is evident that with the advent of Unicode, it has become far easier to maximize use of Hindi in banks through computer, e-mail and website. Achieving various targets of annual programme for implementation of official language policy is also important from the point of Bank's mission of excellence in customer service while continuously performing its developmental banking role as a committed premier financial services group of India.